हेल्थ

स्वस्थ भोजन: आयुर्वेद के अनुसार 7 सबसे महत्वपूर्ण नियम जिनका आपको भोजन करते समय पालन करना चाहिए | स्वास्थ्य समाचार

स्वस्थ आहार: सभी जीवित चीजें भोजन से अपना उचित पोषण प्राप्त करती हैं। जब समझदारी से सेवन किया जाता है, तो यह लोगों के लिए अमृत और ईंधन के रूप में कार्य करता है, लेकिन जब अनुचित तरीके से सेवन किया जाता है, तो यह जहर का काम भी कर सकता है। इसलिए, यह जानना आवश्यक है कि स्वस्थ रहने के लिए आपका शरीर किन खाद्य पदार्थों के प्रति प्रतिक्रिया करता है।

आयुर्वेद में, भोजन को स्वास्थ्य के प्राथमिक घटक के रूप में देखा जाता है। एक व्यक्ति के शरीर का प्रकार निर्धारित करेगा कि उसे किस प्रकार के आहार का पालन करना चाहिए। आयुर्वेद के अनुसार, शरीर में घटकों के असंतुलन के कारण बीमारियां होती हैं। वात, पित्त और कफ तीन दोष हैं जिन्हें इस पारंपरिक औषधीय दृष्टिकोण से ध्यान में रखा जाता है। स्वस्थ, पौष्टिक आहार खाकर शरीर में इन तीनों दोषों को संतुलित अवस्था में बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

यहाँ सात नियम हैं जिन्हें आप स्वस्थ जीवन जीने के लिए नहीं छोड़ सकते:

1. प्रकृति (प्रकृति)

कुछ खाद्य पदार्थ अपने स्वभाव से ही हल्के होते हैं। उदाहरण के लिए, उड़द की दाल गाढ़ी और पचाने में मुश्किल होती है, जबकि मूंग की दाल हल्की और जल्दी पचने वाली होती है। इसलिए भोजन करते समय भोजन के भारीपन या हल्केपन का ध्यान रखें।

2. करण (संस्कार)

हमारे द्वारा बनाए जा रहे भोजन के प्राकृतिक गुणों को संस्कार या हमारे द्वारा पकाई जाने वाली तकनीक से बढ़ाया जा सकता है। उदाहरण के लिए, गैस, चूल्हे और तंदूर में तैयार किए गए भोजन का स्वाद अलग-अलग होता है क्योंकि वे अलग-अलग तरीकों से आग या गर्मी प्राप्त करते हैं।

3. संयोग (संयोग)

खाने से पहले दो या दो से अधिक खाद्य पदार्थों को मिला लें। इसके दो रूप हैं: एक ऐसी सामग्री का संयोजन जो शरीर के लिए अच्छा है और इसके ऊतकों को नुकसान नहीं पहुंचाता है और शरीर के लिए इन हानिकारक और जोखिम भरे यौगिकों का मिश्रण ऐसा प्रतिबंधित आहार नहीं लेना चाहिए। मिल्कशेक, बनाना शेक और मैंगो शेक जैसे खाद्य पदार्थ ‘अधूरे खाद्य संयोजन’ हैं जो आंतरिक अंग को नुकसान पहुंचा सकते हैं, और विषाक्त पदार्थों का उत्पादन कर सकते हैं, जो आगे चलकर स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकते हैं।

4. राशि (मात्रा)/मात्रा

पाचन अग्नि निर्धारित करती है कि कितना खाना खाना है। यह सलाह दी जाती है कि आप खाने की इच्छा से थोड़ा कम भोजन करें। भरे पेट पर खाने से बचें।

5. देश (स्थान)

तैयार खाद्य पदार्थों पर बहुत अधिक भरोसा न करें। भोजन बनाते समय ताजे और उच्च गुणवत्ता वाले अनाज का उपयोग करना चाहिए। गेहूँ, चावल, और दालें जैसे खाद्य पदार्थ उच्च गुणवत्ता वाले होने चाहिए और सब्ज़ियाँ ताज़ी काटी जानी चाहिए।

6. काल (समय)

समय पर भोजन करना महत्वपूर्ण है। जब आपका पिछला भोजन ठीक से पच गया हो तभी आपको दोबारा भोजन करना चाहिए। भूख लगने पर खाएं, इसलिए नहीं कि आपकी स्वाद कलिकाएं आपको ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित कर रही हैं।

7. उपयोगिता संस्थान (नियम अनुपालन)

भोजन करते समय बात करने, हंसने, टीवी देखने, अखबार पढ़ने और फोन का उपयोग करने से बचना चाहिए। इसके अतिरिक्त, बहुत जल्दी, बहुत अधिक या बहुत धीरे-धीरे खाना खाने से बचें।

(अस्वीकरण: यह लेख सामान्य जानकारी पर आधारित है और किसी विशेषज्ञ की सलाह का विकल्प नहीं है। ज़ी न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता है।)




Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
en_USEnglish