वैज्ञानिको ने पता लगाया कि कैसे हमारे जीनोम प्रारंभिक मानव विकास के दौरान हमारे अंग के विकास को करते है नियंत्रित

How genome controls organ development in early stage of life found out by researchers
वैज्ञानिको ने पता लगाया कि जीनोम प्रारंभिक मानव विकास के दौरान अंग के विकास को नियंत्रित करते है – फोटो @onlymyhealth

द यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्टर के वैज्ञानिकों की एक टीम ने पता लगाया है कि हमारा जीनोम मानव
जीवन के लिए महत्वपूर्ण कई अंगों के विकास को कैसे नियंत्रित करता है।
इस अनुसंधान को ब्रिटेन में वेलकम ट्रस्ट और मेडिकल रिसर्च काउंसिल द्वारा कराया गया जिसमे
कैम्ब्रिज और स्पेन के सेविले में सहयोगी थे।
नेचर कम्युनिकेशंस में प्रकाशित अध्ययन, डीएनए के बीच थोड़े बचे खंडों पर महत्वपूर्ण प्रकाश डालता है जो जीन के बीच में पाए जाते हैं । यह अध्यन वैज्ञानिकों और चिकित्सकों को यह समझ पाने में मदद करेगा कि कैसे कुछ शिशुओं और बच्चों को जन्म लेते ही दिल में छेद जैसी स्थितियों के साथ पैदा होना पड़ता है।

आजकल जहा तेजी से, मरीज अपने दिल, गुर्दे, मस्तिष्क और अंगों को प्रभावित करने वाली स्थितियों के साथ पैदा होते हैं, लेकिन उनके जीनोम में कोई स्पष्ट दोष नहीं मिला है, वे ‘नेक्स्ट जनरेशन सीक्वेंसिंग’ (NGS) द्वारा अपने पूरे जीनोम को जल्दी और कुशलता से पढ़ सकते हैं।
हमारे शरीर में 30,000 से भी अधिक जीनोम हमारी प्रत्येक कोशिका में प्रत्येक प्रोटीन को बनाने के लिए कोड धारण करे हैं, आश्चर्यजनक रूप से यह लगभग 2% डीएनए के लिए ही होता है, जो बेस नामक रासायनिक इकाइयों से बना है। ऐतिहासिक रूप से, हम शेष डीएनए को ‘जंक’ के रूप में खारिज कर देते है तब से वैज्ञानिकों ने तथाकथित गैर-कोडिंग डीएनए के इस विशाल आनुवंशिक परिदृश्य को महसूस किया है जो 98% है और वास्तव में यही नियंत्रित करते है कि प्रत्येक जीनोम को सही क्रम में कैसे चालू या बंद किया जाता है।

ये अध्यन हमको ये बताता है कि एक जीनोम हमारे प्रत्येक अलग-अलग ऊतकों को कैसे बना सकता है। इस से पहले समस्या यह थी कि अब तक, वैज्ञानिकों को इस बारे में बहुत कम जानकारी थी कि यह महत्वपूर्ण चरण में कैसे काम करता है जब मानव अंगों को पहली बार एक साथ रखा जाता है।
हालाँकि, एकल समस्या के लिए 3 बिलियन या इतने आधारों का परिमार्जन बड़े पैमाने पर चुनौतीपूर्ण है, इसलिए एनजीएस तकनीक को अपनाने से, टीम गैर-कोडिंग जीनोम के केवल उन हिस्सों पर ध्यान दे पाई है जो कार्यात्मक थे और इस से ये भी यह पता चला कि यह कुल का लगभग 3% ही है। मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी के एनएचएस के एक चिकित्सक प्रोफेसर नील हैनले ने कहा, “हड़ताली जीनों के विशेष सेट सही समय पर सही समय पर सही तरीके से चालू नहीं किए गए थे, लेकिन गलत जीन के लिए यह कितना महत्वपूर्ण था।” शोधकर्ताओं ने मानव डीएनए के महत्वपूर्ण गैर-कोडिंग सेगमेंट को दिखाने के लिए ज़ेब्राफिश और प्रयोगशाला स्टेम कोशिकाओं को विकसित करने में अपने निष्कर्षों की दोहरी जांच की, जो मछली में भी उचित रूप से हरे रंग के फ्लोरोसेंट प्रोटीन को हल्का कर सकते हैं।

One thought on “वैज्ञानिको ने पता लगाया कि कैसे हमारे जीनोम प्रारंभिक मानव विकास के दौरान हमारे अंग के विकास को करते है नियंत्रित

  1. Yah bahut hi mahatav purn Khoj hai esase in Lakho bachche Ko fayada Togo Ko aapane Dil gurde me chhed liye paida hote hain

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *